Now you can Subscribe using RSS

Submit your Email

Saturday, 17 September 2016

Easy steps to create website on JOOMLA

IDL Technologies
                      WordPress, Joomla and Drupal are the best and latest CMS way to build a perfect looking/functioning website. Joomla is easy to learn and has many options (modules and plugins) and is the most popular, drupal is harder to learn but is the best.

Steps to create your website:

Step 1: Download and install wamp server.


Step 2 : May be you got an error (Aestan Tray Menu has encountered a problem and needs to close. We are sorry for the inconvenience) Then follow these simple steps:

* Uninstall WAMP server completely (from the Control Panel).
* Check if the .NET framework is installed on your system. If not, Download it from here and install it.
* 32 bits OS : Install the Microsoft Visual C++ 2008 SP1 Redistributable Package (x86)
64 bit OS : Install the Microsoft Visual C++ 2008 SP1 Redistributable Package (x64)
* 32 bits OS : Install the Microsoft Visual C++ 2010 SP1 Redistributable Package (x86)
64 bit OS : Install the Microsoft Visual C++ 2010 SP1 Redistributable Package (x64)
* Install WAMP Server again.
* In some cases, the programs like Skype or TeamViewer.

Step 3: Download Joomla and after unzip paste this folder in www folder under wamp server (C:/WAMP/WWW).

Step 4: Start wamp server by clicking wamp icon at the right side of the task bar and click on start all service.



Step 5: In the browser type http://localhost/joomla/administrator" and press "enter".

Step 6: Fill up all the required details for the administration panel.

Step 7: Now your panel is ready to start website designing.

Step 8: Create articles, build a menu, fix everything in the location you want in the template, edit CSS and HTML files, download more than 32,000 free joomla templates add user login, add forms and photo gallery, and plenty more options.

Software company in kanpur

Step 9: Create a professional looking website and view your site's progress. Open another browser window and put the address: http://localhost/joomla, where you can see your newly created site. when you change something in the control panel, check how it looks like in the website's page by refreshing the page.

Thanking you for reading this article. Give your feedback for better response.                  







Friday, 16 September 2016

Joomla | CMS (Content Management System)

IDL Technologies
Joomla, content management system (CMS), which enables you to build Web sites and powerful online applications. Many aspects, including its ease-of-use and extensibility, have made Joomla! the most popular Web site software available. Best of all, Joomla is an open source solution that is freely available to everyone.

Create your website

Benefits of Joomla

  • Provides plugs ins and site modules to enhance websites and content.
  • Over 6000 extensions available.
  • Responsive templates adapt websites for various platforms, including mobile devices.
  • Permission levels restrict site user file access while giving site workers access to the files they need to do their particular jobs.
  • Support for different languages for different sites or site sections.
  • Supports polls, search and web link management and analysis. 

Bulk SMS Service provider in Kanpur

IDL Technologies

IDL Technologies provide Bulk SMS gateway and Bulk SMS Gateway api for sending sms in india .Send SMS from internet from your computer or pc to mobile. Our bulk sms services are used by many corporate, stock brokers, financial institutes , others companies.

Order for bulk sms

Benefits of Bulk SMS?
  • Bulk sms has become a MUST Advertising tool in India to promote business.
  • Avail bulk sms services to achieve maximum profits.
  • Cheaper than a phone call.
  • Email/computer is not always readily available.
  • MS is cheaper than sending a fax.
Call for free demo:
9919069506




Wednesday, 14 September 2016

MLM Marketing News | डायरेक्ट सेलिंग पर सरकार की गाइडलाइन जारी

IDL Technologies

डायरेक्ट सेलिंग पर सरकार की गाइडलाइन जारी


उपभोक्ता मामलात मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से आज डायरेक्ट सेलिंग व मल्टीलेवल मार्केटिंग को लेकर देशभर में दिशा निर्देश जारी कर दिए गए हैं। लम्बे समय से लम्बित चले आ रहे इस मामले को गाइडलाइन जारी होने के साथ ही अब नई दिशा मिलेगी। इस संबंध में आज शाम सभी राज्य सरकारों व केन्द्रशासित प्रदेशों को अधिसूचना भी जारी कर दी गई है। साथ ही केन्द्र की ओर से इस गाइडलाइन को यथास्थिति लागू करने को कहा गया है।

उपभोक्ता मामलात मंत्रालय के अनुसार इस गाइडलाइन को डायरेक्ट सेलिंग गाइडलाइन- 2016 के नाम से जाना जाएगा। इस गाइडलाइन में सरकार ने कुल नौ धाराएं शामिल की हैं, जिनकी 52 उपधाराओं को जोड़ा गया है। इस गाइडलाइन के साथ ही देशभर में चल रही पोंजी और पिरामिड स्कीमों पर रोक लगेगी और उत्पादों पर आधारित कंपनियों को नई ऊंचाईयां छूने का अवसर मिलेगा। गौरतलब है कि पोंजी और पिरामिड स्कीमों के नाम पर मनी रोटेशन कर रही कंपनियां बिना उत्पादों के नेटवर्क बना रही थी, जिनपर इस गाइडलाइन के साथ ही लगाम लग जाएगी। इस गाइडलाइन में मुख्य रूप से सरकार ने डायरेक्ट सेलिंग और पोंजी स्कीमों में अंतर बतलाया है। सरकार के अनुसार अब केवल जुडने अथवा जोइनिंग पर कमीशन बांटने पर पाबंदी होगी। लेकिन डायरेक्ट सेलिंग में उत्पादों की बिक्री के आधार पर डायरेक्ट सेलर को कमीशन दिया जाना संभव होगा। गाइडलाइन में ग्राहक हितों को ध्यान में रखते हुए कंपनियों को अपने बिक्री के उत्पाद अथवा सेवाओं पर 30 दिन की मनीबैक गारंटी लागू करने के निर्देश भी दिए गए हैं। अब डायरेक्ट सेलर्स को कंपनियों की ओर से नियमानुसार पहचान भी जारी किए जाएंगे। डायरेक्ट सेलिंग कंपनियों को अपने सभी डायरेक्ट सेलर्स के डाटा रखने होंगे और पैन कार्ड व प्रमाणिक आईडी रखना जरूरी होगा। साथ ही साथ कंपनियों को अपनी अपडेटेड वेबसाइट पर प्लान, उत्पादों की पूरी जानकारी, कंपनी का पता, संपर्क तथा शिकायतों के लिए प्रकोष्ठा रखना आवश्यक होगा, जिनका निवारण शिकायत मिलने के 45 दिनों में कंपनियों को करना होगा।

गाइडलाइन में सरकार की ओर से सीधे तौर पर निर्देशित किया गया है कि डायरेक्ट सेलिंग के जरिए बेचे जाने वाले उत्पाद व सेवाओं पर लगने वाले कर जिनमें वैट शामिल है का हिसाब-किताब कंपनियां रखेंगी, व तय समय पर टैक्स जमा करवाएंगी। सरकार ने दिशा-निर्देशों में किसी भी प्रकार के रिनिवल पर रोक लगाई है। गाइडलाइन में यह भी निर्देशित किया गया है कि डायरेक्ट सेलिंग कंपनी और डायरेक्ट सेलर के बीच इंडियन कॉन्टे्रक्ट एक्ट 1872 के तहत करार होगा, जिसके आधार पर दोनों मिलकर काम कर पाएंगे। इसमें ग्राहकों को कूलिंग-ऑफ पीरियड की सुविधा भी निर्देशित की गई है। यह एक तय समय होगा, जिसमें ग्राहक संतुष्ट नहीं होने की स्थिति में कंपनी से अपना करार रद्द करने का हकदार होगा। निर्देशों के अनुसार कंपनियों को किसी भी ऐसे डायरेक्ट सेलर का करार रद्द करने अथवा आईडी टर्मिनेट करने का हक होगा, जो बीते दो वर्ष या इससे अधिक समय से सक्रिय नहीं है। यहां सक्रियता उसकी दो वर्षों में एक भी खरीदारी नहीं करने को माना गया है। टर्मिनेशन की स्थिति में कंपनी को उचित कारण भी बताना जरूरी होगा।

डायरेक्ट सेलर्स को मिलेगी पहचान

दिशा-निर्देशों के अनुसार अब डायरेक्ट सेलर को किसी भी संभावित ग्राहक से मिलते समय अपना आईडी कार्ड साथ रखना जरूरी होगा। साथ ही साथ अपने उत्पाद, सेवा इत्यादि की कीमत, क्रेडिट टर्म्स, टर्म्स ऑफ पेमेंट, रिटर्न पॉलिसी, टर्म्स ऑफ गारंटी व आफ्टर सेल्स सर्विस की जानकारी ग्राहक को देनी होगी। इन दिशा-निर्देशों मेंं सरकार ने डायरेक्ट सेलर्स को भी अधिकार सौंपे हैं। इनमें डायरेक्ट सेलर को कंज्यूमर प्रोटेक्शन एक्ट 1986 के अंतर्गत मानते हुए अधिकार दिए हैं। अब हर कंपनी में ग्राहकों अथवा डायरेक्ट सेलर्स की समस्याओं को सुलझाने के लिए तीन सदस्यीय ग्रिवेंस रेडरेसल कमेटी होना आवश्यक होगा, जो सभी शिकायतों के निवारण का कामकाज सुचारू रूप से देखेगी।

अच्छी कंपनियों को मिलेगी ऊर्जा

फेडरेशन ऑफ डायरेक्ट सेलिंग एसोसिएशन (एफडीएसए) सहित फेडरेशन ऑफ इंडियन चैम्बर्स ऑफ कॉमर्स एण्ड इंडस्ट्री (फिक्की) की ओर से इस संबंध में सालों से प्रयास जारी थे। इस गाइडलाइन को जारी करते हुए उपभोक्ता मामलात मंत्री रामविलास पासवान ने कहा है कि यह गाइडलाइन डायरेक्ट सेलर्स के हितों को ध्यान में रखते हुए जारी की गई है। जिसके जरिए इस उद्योग में बेहतर काम करने वाली कंपनियों को नई ऊर्जा मिलेगी।

केरल और राजस्थान आगे

डायरेक्ट सेलिंग को लेकर केरल सरकार की ओर से आज से ठीक पांच साल पहले यानी 12 सितम्बर, 2011 को देश में पहली बार दिशा-निर्देश जारी किए गए थे। इसके बाद राजस्थान सरकार ने भी 5 अक्टूबर 2012 को आठ नियम व शर्तों के साथ दिशा निर्देश जारी कर दिए थे। भारत सरकार की ओर से केरल और राजस्थान में पहले से लागू आदेशों को इस गाइडलाइन में तवज्जो दी गई है।

बेहतरीन कंपनियों को है बड़ा बाजार

इस गाइडलाइन के जारी होने के साथ ही उत्पादों पर आधारित कंपनियों को बड़ा लाभ मिलेगा। देश में एम्वे इंडिया, टपरवेयर, ओरिफ्लेम, एमआई लाइफस्टाइल, डीएक्सएन, हर्बललाइफ, एवॉन, वेस्टीज, एल्टॉस, थियांसी सरीखी बड़ी कंपनियों का डायरेक्ट सेलिंग कारोबार के बड़े हिस्से पर कब्जा है। इस गाइडलाइन के साथ ही इन स्थापित कंपनियों सहित उत्पादों पर आधारित साफ-सुथरी कंपनियों के कारोबार में बड़ा उछाल आएगा। साथ ही कंपनियों में उत्पादों की नई रेंज भी देखने को मिलेगी। दिलचस्प बात यह भी है कि गाइडलाइन जारी होने के पहले ही इन कंपनियों समेत कई कंपनियों ने अपने कारोबार में सरकार को समर्थन देते हुए ग्राहकों के लिहाज से बेहतर बदलाव कर लिए थे।
All guidelines by issued Govt. Of India..

Digital Signature for e tender | apply hurry up now

IDL Technologies
Apply for Digital Signature

What are the different types of Digital Signature Certificates valid for eTendering programmme ?

The different types of Digital Signature Certificates are:
Class 2: Here, the identity of a person is verified against a trusted, pre-verified database.
Class 3: This is the highest level where the person needs to present himself or herself in front of a Registration Authority (RA) and prove his/ her identity.

Can I fill e-tender of documents if I do not possess a DSC?

No. It is mandatory to have a valid digital signature certificate for e-tendering portal.



Monday, 12 September 2016

Professional and Corporate Services

IDL Technologies

Professional and Corporate Services

UPDSC Services works on Digital Signature and as well as Professional & Corporate Services.
Our Services:





We associates with CA/CS , Advocates. Our team is efficient, reliable and display a very comprehensive understanding of the needs of companies seeking to do business in Ireland from both a commercial and compliance perspective.We are also connected with Government Department.

Saturday, 10 September 2016

10 more latest tenders: Helpful for Contractors

IDL Technologies

Next top 10 tenders
Fill hurry up

Digital signture is complusory for filling e - tender

apply for digital signature


S.No
Expiray Date
Title and ref. No.
Name of Dept./Org.
1
21-Sep-2016
Border Security Force,Jodhpur
2
26-Sep-2016
Eastern Coalfields Limited (ECL),Disergarh
3
21-Sep-2016
Border Security Force,Gwalior
4
1-Oct-2016
Eastern Coalfields Limited (ECL),Disergarh
5
19-Sep-2016
Airports Authority of India,Delhi
6
19-Oct-2016
Procurement of Sanitation items of C.H.Kalla. 
ECL/CHK/Surgical Disposable items/16-17/MM-10
Eastern Coalfields Limited (ECL),Disergarh
7
21-Sep-2016
Border Security Force,Gwalior
8
19-Sep-2016
Airports Authority of India,Delhi
9
16-Sep-2016
Western Coalfields Limited,Chandrapur
10
27-Sep-2016
Plastic Coupler 
TFBH/16-17/PLB/PS-11
Bharat Sanchar Nigam Limited (BSNL),JABALPUR

Friday, 9 September 2016

Documents required for Class 3 Digital Signature

IDL Technologies

Documents required for Class 3 Digital Signature

  • Application Form (Duly Signed)
  • Recent Passport Size Photograph (Pasted on the Application form and Signed across the Photo)
  • Identity Proof
    • PAN CARD * (Income Tax F Filing Portal requires PAN Encrypted DSC)
    • Passport
    • Driving License
    • Photo ID Issued by Central Or State Government
    • Voter ID
    • Aadhar Card
Apply for Digital Signature
  • Address Proof
    • Passport
    • Driving License
    • Latest Utility Bills - Not Older than 3 Months (Telephone, Electricity, Water, Tax, LIC)
    • Ration Card
    • Voter ID
    • Bank Account Statement ( Not Older than 2 Months)
    • Service Tax/ VAT registration Certificate
    • Property tax/ Municipal tax Receipt
  • Proof of Right to do Business (Any one of the Following)
    • Certificate of Incorporation
    • Memorandum of Association & Articles of association
    • Registered Partnership deed
    • Valid Business licenses like VAT , Service Tax Registration
    • License under shop and Establishment Act (For Proprietorship Concerns)
    • PAN Card of the Company/Firm
  • Proof of Right to do Business (Any one of the Following)
    • Latest annual Report / Balancesheet
    • Latest Income Tax Returns
    • Organization Bank Details on Banks Letter Head/ Latest Bank statement attested by Bank
  • Authorization Letter in Favor of the application
All Documents to be Self Attested by the applicant & Attested by the Authorised Signatory of the Business with Stamp & Seal.

 

Class 3 Individual with organization for e Tendering

IDL Technologies

Class 3B Individual with Organization for e Tendering

Class 3 Digital Signature Certificate ensures convenient and enhanced Security in Filing E Tenders. A digital Signature Certificates authenticates the identity of the person filing the Tender Information. A Class 3 Digital signature Certificate provides highest Level of assurance in the RCAI (Root Certifying Authority of India) hierarchy setup under the Controller of Certifying Authority. An organization needs to obtain a class 3B digital signature certificate in the name of the authorized representative to submit the Bids and tender documents online. . Class 3B Digital Signature Certificate is issued only to authorize Individuals of an Organisation.
 
A signing Certificate ensures that the message is not tampered in transit and also verifies the identity of the person filing the Tender. An Encryption certificate encrypts the data in a cipher text so that only the intended Person can read the message.
 
Class 3a Individual certificates issued to individuals or devices and encompass primarily high end security-sensitive online activity.
 
Where it is used
  • E Tendering
  • E Procurement (Certain Site Require Encryption Certificates)
  • E Bidding
  • E Mail Signing
  • PDF Signing

 

Help for contractors : How to fill e tender

IDL Technologies

How do I submit my tender to the department?

The tender can be downloaded from the eProcurement site on paying the requisite fee. You can fill the tender documents and submit online along with the scanned certificates required for the tender.

How do I submit my certificates along with the tenders?

After registering on e Procurement, you are provided with required space online for storing your information in the form of scanned copies such as experience certificates etc. You could go to "Edit Profile" and attach/ upload any number of documents/ certificates.Once loaded, these can be used repeatedly for all future tenders.

Apply for digital signature

How do I confirm my tenders are submitted without any problem?

After submitting your tender, you will get a receipt mail providing the status of the submission.

Latest Tenders:

S.No.
Expiry Date
Title & Reference No.
Name of Department
1
5-Oct-2016
Madhya Pradesh Power Generating Company Limited Jabalpur,Jabalpur
2
7-Oct-2016
East Central Railway,Vaishali
3
21-Sep-2016
Border Security Force,Jammu
4
16-Sep-2016
Western Coalfields Limited,Umrer
5
23-Sep-2016
Bank of Baroda,Lucknow
6
6-Oct-2016
PROCUREMENT OF RIFLE OIL, OX-52
SAW/Procurement of Oil/Ftr-Pb/2016/01
Border Security Force,Jallandhar
7
7-Oct-2016
East Central Railway,Vaishali
8
3-Oct-2016
Oriental Bank of Commerce,New Delhi
9
14-Sep-2016
Border Security Force,Jammu
10
29-Sep-2016
Union bank of India (UBI),Ahmedabad

Coprights @ 2016, IDL Technologies Blog Designed By IDL (iNNODATALAB) Technologies | Distributed By UPDSC